गोला किसे कहते है | ठोस गोले के सूत्र – आयतन , वक्र-पृष्ठ | What Is Sphere In Hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका , आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको ठोस गोले के बारे में बतायेंगे जैसे – गोला किसे कहते है ? , गोले के परिभाषा ? , गोले के आयतन का सूत्र ? , गोले का वक्र – प्रष्ठ आदि आइये सबसे पहले जानते है –

Gola-Kise-kahte-hai-gole-ke-sutra

गोला (Sphere) किसे कहते है ?

वह ठोस गोलाकार वस्तु गोला कहलाती है जिसमे केवल एक तल एवं तीन आयाम होते है जैसे (लम्बाई , चौड़ाई , ऊंचाई ) .गोले के  तल का प्रत्येक बिन्दु एक निश्चित बिन्दु से समान दूरी पर होता है . इस बिन्दु को गोले का केन्द्र कहते हैं तथा केन्द्र से गोले के किसी बिन्दु की दूरी को गोले की त्रिज्या कहते हैं.

गोले की त्रिज्या –

यह गोले के केंद्र से निकलने वाली सीधी रेखा होती है जो गोले के प्रत्येक शिरे पर सतह अथवा परिधि से मिलती है .

गोले का व्यास –

 केन्द्र से गोले के किसी बिन्दु की दूरी को गोले की त्रिज्या कहते हैं.

गोले का आयतन –
गोले का आयतन हम निम्न सूत्र की सहायता से निकाल (ज्ञात) कर सकते है –

गोले का आयतन = (4/3*π*r3 ) घन सेमी०.
जहाँ π = 22/7 , r = गोले की त्रिज्या है .

गोले का वक्र-पृष्ठ –

गोले का वक्र-पृष्ठ हम निम्न सूत्र की सहायता से निकाल (ज्ञात) कर सकते है –

गोले का वक्र-पृष्ठ = (4*π*r2) वर्ग सेमी ०.
जहाँ π = 22/7 , r = गोले की त्रिज्या है .

अर्द्ध – गोले का आयतन –

गोले का अर्द्ध – गोले का आयतन  हम निम्न सूत्र की सहायता से निकाल (ज्ञात) कर सकते है –
अर्ध – गोले का आयतन = (2/3*π*r3) घन सेमी०.

जहाँ π = 22/7 , r = गोले की त्रिज्या है .

अर्द्ध – गोले का सम्पूर्ण पृष्ठ –

 अर्द्ध – गोले का सम्पूर्ण पृष्ठ  हम निम्न सूत्र की सहायता से निकाल (ज्ञात) कर सकते है –

अर्द्ध गोले का सम्पूर्ण पृष्ठ = (3*π*r) वर्ग सेमी०.

जहाँ π = 22/7 , r = गोले की त्रिज्या है .




आशा करते है इस पोस्ट में दी गयी जानकारी “Gola Kise Kahte Hai Gole Ke Sutra” आपको पसंद आई होगी . इस विषय से सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए हमें कमेंट करके बताएं .